प्रथम पाद - सत्सड्गकी माहिमा

श्रध्दा - भक्ति , वर्णाश्रमोचित आचार तथा सत्सड्गकी माहिमा , मॄकण्डु मुनिकी
तपस्यासे संतुष्ट होकर भगवानका मुनिको दर्शन तथा वरदान देना
श्रीसनकजी कहते हैं - नारद। श्रद्धापूर्वक आचरणमें लाये हुए सब धर्म मनोवांछित फल देनेवाले होते हैं। श्रध्दासे सब कुछ सिध्द होता है और श्रध्दासे ही भगवान् ‍ श्रीहरि संतुष्ट होते हैं। भक्तियोगका साधन भक्तिपूर्वक ही करना चाहीये तथा सत्कार्मोका अनुष्ठान भी श्रध्दा - भक्तिसे ही करना चाहिये। विप्रवर नारद। श्रद्धाहीन कर्म कभी सिध्द नहीं होते। जैसे सूर्यका प्रकाश समस्त जीवोंकी चेष्टामे कारण होता है , उसी प्रकार भक्ति सम्पूर्ण सिध्दियोंका परम कारण है। जैसे जल सम्पूर्ण लोकोंका जीवन माना गया है , उसी प्रकार भक्ति सब प्रकारकी सिध्दियोंका जीवन है। जैसे सब जीव - जन्तु पॄथ्वीका आश्रय लेकर जीवन धारण करते हैं , उसी प्रकार भक्तिका सहारा लेकर सब कर्योका साधन करना चाहीये। श्रध्दालु ही धन पाता है , श्रध्दासे ही कामनाओंकी सिध्दि होती है तथा श्रध्दालु पुरुष ही मोक्ष पाता है मनिश्रेष्ठ। दान , तपस्या अथवा बहुत दक्षिणावाले यज्ञ भी यादि भक्तिसे रहित हैं तो उनके द्वारा भगवन् ‍ विष्णु संतुष्ट नहीं होते हैं। मेरु पर्वतके बराबर सुवर्णकी करोडों सहस्त्र राशियोंका दान भी यादि बिना श्रध्दा - भक्तिके किया जाय तो वह निष्फल होता है। बिना भक्ति जो तपस्या की जाती है , वह केवल शरिरको सुखाना मात्र है ; बिना भक्ती जो हविष्यका हवन किया जाता है , वह राखमें डाली हुई आहुतिके समान व्यर्थ है , श्रध्दा - भक्तिके साथ मनुष्य जो कुछ थोडा - सा भी सत्कर्म करता है , वह उसे अनन्त कालतक अक्षय सुख देनेवाला होता है। ब्रह्मन् ‍ । वेदोक्त अश्वमेध यज्ञका एक सहस्त्र बार अनुष्ठान क्यों न किया जाय , यादि वह श्रध्दा - भक्तिसे रहित है तो सब - का - सब निष्फल होता है। भगवानकी उत्तम भक्ति मनुष्योंके लिये कामधेनुके समान मानी गयी है ; उसके रहते हुए भी अज्ञानी मनुष्य संसाररुपी विषका पान करते है , यह कितने आश्र्चर्यकी बात है। ब्रह्मपुत्र नारदजी। इस असार संसारमें ये तीन बातें ही सार हैं -‘ भगवभ्दकोंका सड्ग , भगवान् ‍ विष्णुकी भक्ती और सुख - दु॑ : ख आदि द्वन्द्वोंको सहन करनेका स्वाभाव। ब्रह्मन्। जिनके मनमें दूसरोंके दोष देखनेकी प्रर्वत्ति है , उनके किये हुए भजन - दान आदि सभी कर्मोको निष्फल जानो। भगवान् ‍ विष्णु उनसे बहुत दूर हैं। जो दूसरोंकी सम्पत्ति देखकर मन - ही - मन संतप्त होते हैं , जिनका चित्त पाखण्ड्पूर्ण आचारोंमे ही लगता है , वे व्यर्थ कर्म करनेवाले हैं। भगवान् ‍ श्रीहरि उनसे बहुत दूर हैं। जो बडे - बडे धर्मोके विषयमें प्रश्न करते हैं , किंतु उन धर्मोको झूठा बताते हैं और धर्म - कर्मके विषयमें जिनका मन श्रध्दा - भक्तिसे रहीत है , ऎसे लोगोंसे भगवान् ‍ विष्णु बहुत दूर हैं। धर्मका प्रतिपादन वेदामें किया गया है और वेद हैं। साक्षात् ‍ परम पुरुष नारायणका स्वरुप है। अत : वेदोंमे जो अश्रध्दा रखनेवाले हैं , उनसे भगवान ‍ बहुत दूर हैं। जिसके दिन धर्मानुष्ठानके बिना ही आते और चले जाते हैं , वह लहारकी धैंकनीके समान साँस लेता हुआ भी जीवित नहीं है। ब्रह्मनन्दन। धर्म , अर्थ , काम और मोक्ष ये चार पुरुषार्थ सनातन हैं। श्रध्दाहीनको नहीं। जो मानव अपने वर्णाश्रमोचित आचारका उल्लड्घन किये बिना ही भगवान ‍ विष्णुकी भाक्तिमें तत्पर है , वह उस वैकुण्ठधाममें जाता है , जिसका दर्शन बडे - बडे ज्ञानी भक्तोंको सुलभ होता है। मुनीश्वर। जो अपने आश्रमके अनुकुल वेदोक्त धर्मोका पालन करते हुए भगवान विष्णुके भजन - ध्यानमें लगा रहता है , वह परम पद्को प्राप्त होता है। आचारसे धर्म प्रकट होता है और धर्मके स्वामी भगवान् ‍ विष्णु हैं। अत : जो अपने आश्रमके आचारमें संलग्न है , उसके द्वारा भगवान् ‍ श्रीहरि सर्वदा पूजित होते हैं। जो छहों अड्गोंसहित वेदों और उपनिषदोंका ज्ञात होकर भी अपने वर्णाश्रमोचित आचारसे गिरा हुआ है , उसीको पतित समझना चाहिये : क्योंके वह धर्म - कर्मसे भ्रष्ट हो चुका है। भगवानकी भाक्तिमें तत्पर तथा भगवान ‍ विष्णुके ध्यानमें लीन होकर भी जो अपने वर्णाश्रमोचित आचारसे भ्रष्ट हो , उसे पतित कहा जाता है। द्विजश्रेष्ठ। वेद , भगवान ‍ विष्णुकी भक्ति अथवा शिवभक्ति भी आचार - भ्रष्ट मूढ पुरुषको पवित्र नहीं करती है। ब्रह्मन। पुण्यक्षेत्रोमें जाना , पवित्र तीथोंका सेवन करना अथवा भाँति - भाँतिके यज्ञोंका अनुष्ठान भी आचार - भ्रष्ट पुरुषकी रक्षा नहीं करता। आचारसे स्वर्ग प्राप्त होता है , आचारसे सुख मिलाता है और आचारसे ही मोक्ष सुलभ होता है : आचारसे क्या नहीं मिलता ?
साधुश्रेष्ठ। सम्पूर्ण आचारोंका , समस्त योगोंका तथा स्वयं हरिभक्तिका भी मूल कारण भक्ति ही मानी गयी है। सबको मनोक मनोवत्र्चित फल प्रदान करनेवाले भगवान् ‍ विष्णु भक्तिसे ही पूजित होते हैं। अत : भाक्ति सम्पर्ण लोकोंकी माता कही जातो है। जैसे सब जीव मातामा ही आश्रय लेकर जीवन धारण करते है , उसी प्रकार समस्त धर्मिक पुरुष भक्तिका आश्रय लेकर जीतो हैं। नारदजी। अपने वर्ण और आश्रमके आचारका पालन करनेमें लगे हुए पुरुषको यादि भगवान ‍ विष्णुकी भक्ति प्रप्त हो जाय तो तीनों लोकोंमें उसके समान दुसरा कोई नहीं है। भक्तिसे कर्मोकी सिध्दि होती है , उन कर्मोसे भगवान् ‍ विष्णु संतुष्ट होते है , उनके संतुष्ट होनेपर ज्ञान प्राप्त होता है और ज्ञानसे मोक्ष मिलता है। भक्ति तो भगवद्भाक्तिके सच्चे आभिलाषी तथा काम , क्रोध आदि दोषोंसे मुक्त हैं , किंतु भगवभ्द्क्तोंके सड्ग मनुष्योंको पूर्वजन्मोंके सांचित पुण्यसे ही मिलता है। जो वार्णाश्रमोचित कर्तव्यके पालनमें तत्पर , भगवद्भक्तोंका सड्ग मनुष्योंको पूर्वजन्मोंके संचित पुण्यसे ही मिलता है। जो वार्णाश्रमोचित कर्तव्यके पालनमें तत्पर , भगवद्भक्तिके सच्चे आभिलाषी तथा काम , क्रोध आदि दोषोंसे मुक्त है , वे ही सम्पूर्ण लोकोंको शिक्षा देनेवाले संत है। ब्रम्हन् ‍ । जो पुण्यात्मा अथवा जितोन्द्रिय नहीं है , उन्हें परम उत्तम सत्सड्की प्राप्ति नहीं होती। यादि सत्संग मिल जाय तो उसमें पूर्वजन्मोंके साचिंत पुण्यको ही कारण जानना चाहिये। जिसके पूर्वजन्मोंमे किये हुए समस्त पाप नष्ट हो जाते है , उसीको सत्संग सुलभ होता है ; अन्यथा उसकी प्राप्ति असम्भव है। सूर्य अपनी किरणोंके समूहसे दिनमें बाहरके अन्धकारका नाश करते है , किंतु संत - महत्मा अपने उत्तम वचनरुपी किरणोंके समुदायसे सदा भीतरके अज्ञानान्धकारका नाश करते रहते है। संसारमें भगवद्भक्तिके लिये लालयित रहनेवाले पुरुष दुर्लभ है ; उनका सड्ग जिसे प्राप्त होता है , उसे सनातन शान्ति सुलभ होता है।
नारदजीने पूछा -
भगवद्भक्त पुरुषोंका क्या लक्षण है ? वे कैसी कर्म करते हैं तथा उन्हें कैसे लोककी प्राप्ति होती है ? यह सब आप यथार्थरुपसे बताइये। सनकाजी। आप सुदर्शनचक्रधारी देवाधिदेव लक्ष्मीपाति भगवान् ‍ विष्णुके भक्त हैं। अत : आप ही ये सब बा्तें बतानेंमें समर्थ हैं। आपसे बढकर दूसरा कोई नहीं है।
सनकजीने कहा -
ब्रह्मन् ‍ । योगानिद्रासे मुक्त होनेपर जगदिश्वर भगवान् ‍ विष्णुने बुध्दिमान् ‍ महात्मा मार्कण्डेयजीको जिस परम गोपनीय रहस्यका उपदेश किया था , वही तुम्हे बतलाता हुँ , सुनो। वे जो परम ज्योति : स्वरुप देवाधिदेव सनातन भगवान् ‍ विष्णु है , वे ही जगत ‍ - रुपमें प्रकट होते है। इस जगतके स्त्रष्टा भी वे ही है भगवान् ‍ शिव तथा ब्रह्माजी भी उन्हीके स्वरुप हैं। और वे प्रलयकालमें भयंकर रुद्र्रुपसे प्रकट होते हैं और समस्त ब्रह्माण्डको अपना ग्रास बनते हैं। स्थावर - जड्गमरुप सम्पूर्ण जगत् ‍ नष्ट होकर जब एकार्णवके जलमें विलीन हो जाता है , उस समय भगवान् ‍ विष्णु ही वटवॄक्षके पत्रपर शिशुरुपसे शयन करते हैं। उनका एक - एक रोम असंख्य ब्रह्मा आदिसे विभूषित होता है। महाप्रलयके समय जब भगवान ‍ वटपत्रपर सो रहे थे , उस समय उसी स्थानपर भगवान् ‍ नारायणके परम भक्त महाभाग मार्कण्डेयजी भगवानकी विविध लीलाओंका दर्शन करते हुए खडे थे।
ॠषियोंने पूछा -
मुने। हमने पहलेसे सुन रखा है कि उस महाभयंकर प्रलयकालमें स्थावर - जड्गम समस्त प्राणी नष्ट हो गये थे और एकमात्र भगवान् ‍ श्रीहरि ही विराजमान थे। जब समस्त चराचर जगत् ‍ नष्ट होकर एकार्णवमें विलीन हो चुका था , तब सबको अपना ग्रास बनानेवाले श्रीहरिने मार्कण्डेय मुनिको किसीलिये बचा रखा था ? सूतजी। इस विषयको लेकर हमारे मनमें बडा कौतूहल हो रहा है। अत : इसका निवारण कीजिये। भगवान् ‍ विष्णुकी सुयश - सुधाका पान करनेमें किसे आलस्य हो सकता है।
सूतजी बोले -
ब्राह्मणो। पूर्वकालमें मॄकण्डु नामसे विख्यार एक महाभाग मुनि हो गये हैं। उन महातपस्वी महर्षिने शालग्राम नामक महान ‍ तीर्थमें बडी भारी तपस्या की ! ब्रह्मन् ‍ । उन्होंने दस हजार युगोंतक सनातन ब्रह्मका गुणगान करते हुए उपवास किया। वे बडे क्षमाशील , सत्यप्रतिज्ञ तथा जितेंन्द्रिय थे। समस्त प्राणियोंको अपने समान देखते थे। उनके मनमें विषय - भोगोंके लिये तानिक भी कामना नहीं थी। वे सम्पूर्ण जीवोंके हितैषी तथा मन और इन्द्रियोंको वशमें रखनेवाले थे। उन्होंने उक्त तीर्थमें बडी भारी तपस्या की। उनकी तपस्यासे शंकित हो इन्द्र आदि सब देवता उस समय अनामय परमेश्वर भगवान् ‍ नारायणकी शरणमें गये। क्षीरसागरके उत्तर तटपर जाकर देवताओंने देवदेवेश्वर जगदगुरु पद्मनाभका इस प्रकार स्तवन किया।
देवता बोले -
हे अविनाशी नारायण। हे अनन्त। हे शरणागतपालक। हम सब देवता मॄकण्डु मुनिकी तपस्यासे भयभीत हो आपकी शरणमें आये हैं। आप हमारी रक्षा कीजिये। देवाधिदेवेश्वर। आपकी जय हो। शड्ख और गदा धारण करनेवाले देवता। आपकी जय हो यह सम्पूर्ण जगत् ‍ आपका स्वरुप है। आपको नमस्कार है। आप ही ब्रम्ह्माण्डकी उत्पात्तिके आदि कारण हैं। आपको नमस्कार है। देवदेवेश्वर। आपको नमस्कार है। लोकपाल। आपको नमस्कार है सम्पूर्ण जगतकी रक्षा करनेवाले। आपको नमस्कार है। लोकसाक्षिन् ‍ आपको नमस्कार है। ध्यानगम्य। आपको नमस्कार है। ध्यानके हेतुभुत। ध्यानस्वरुप तथा ध्यानके साक्षी परमेश्वर। आपको नमस्कार है। पृथ्वॊ आदि पाँच भूत आपके ही स्वरुप है ; आपको नमस्कार है। आप चैतन्यरुप है : आपको नमस्कार है। आप सबसे ज्येष्ठ हैं , आपको नमस्कार है। आप शुध्दस्वरुप हैं , निर्गुण हैं तथा गुणरुप हैं , आपको नमस्कार है। निरकार - साकार तथा अनेक रुप धारण करनेवाले आपको नमस्कार है। गौओं तथा ब्राह्मणोंके हितैषी। आपको नमस्कार है। जगतका हित - साधन करनेवाले साच्चिदानन्द्स्वरुप गोविन्द। आपको बार - बार नमस्कार है।
इस प्रकार देवताओंद्वारा की हुई स्तुतिको सुनकर शड्ख , चक्र और गदा धाराण करनेवाले भगवान् ‍ लक्ष्मीपतिने उन्हें प्रत्यक्ष दर्शन दिया। उनके नेत्र खिले हुए कमलदलके समान प्रभाव था। सब प्रकारके दिव्य आभूषणोंसे वे युक्त थे भगवानके वक्ष : स्थलपर श्रीवत्साचिह्र सुशोभित हो रहा था। वे पीताम्बर धारण किये हुए थे। उनकी आकॄति बडी सौम्य थी। बायें कंधेपर सुनहले रंगका यज्ञोपवीत चमक रहा था। बडे - बडे महर्षि उनकी स्तुति कर रहे थे तथा श्रेष्ठ पार्षद उन्हें सब ओरसे घेरकर खडे थे। उनका दर्शन करके वे सम्पूर्ण देवता उनके तेजके समक्ष फीके पड गये और बडी प्रसन्नताके साथ् पॄथ्वीपर लेटकर अपने आठॊं अड्गेंसे उन्हें प्रणाम किय। तब प्रसन्न हुए भगवान् ‍ विष्णु प्रणाम करनेवाले इन्द्रादि देवताओंको आनंदित करते हुए गम्भीर वाणिमें बोले।
श्रीभगवानने कहा -
देवताओ। मैं जानता हूँ , मॄकण्डु मुनिकी तपस्यासे तुम्हारे मनमें बडा खेद हो रहा है , परंतु वे महर्षि साधुपुरुषोंमें अग्रगण्य है। अत : तुम्हें कष्ट नहीं देगे। श्रेष्ठ देवताओ। जो साधुपुरुष हैं , वे सम्पत्तिमें हों या विपात्तिमें किसी प्रकार भी दूसरेको कष्ट नहीं देते। वे स्वप्रेम भी ऎसा नहीं करते। सज्जनो। जो मानव सम्पूर्ण जगतका हित करनेवाला , दूसरोंके दोष न देखनेवाला तथा ईर्ष्याराहित है , वह इहलोक और परलोकमें साधुपुरुषोंद्वारा ‘ नि : शंक ‘ कहा जाता है। सशंक व्यक्ति सदा दु : खी रहता है और नि : शंक पुरुष सुख पाता है। अत : तुमलोग निश्चिन्त होकर अपने - अपने घर जाओ। मॄकण्डु मुनि तुम्हें कोई कष्ट नहीं देंगे। इसके सिवा तुम्हारी रक्षा करनेवाला मैं तो हूँ ही। अत : सुखपूर्वक विचरो।
इस प्रकार अलसीके फूलकी भाँति श्यामकान्तिवाले भगवान् ‍ विष्णु देवताओंको वर देकर उनके देखते - देखते वहीं अन्तर्धान हो गये। देवताओंका मन प्रसन्न हो गया। वे जैसे आये थे , उसी प्रकार स्वर्गको लौट गये। भगवान् ‍ श्रीहरिने प्रसन्न होकर मॄकण्डुको भी प्रत्यक्ष दर्शन दिया। जो स्वयंप्रकाश , निरत्र्जन एवं निरकार परब्रह्म है , वही अलसीके फुलके समान श्यामसुन्दर विग्रह धारण करके प्रकट हो गये। दिव्य आयुधोंसे सुशोभित उन पीताम्बरधारी भगवान् ‍ विष्णुको देखकर मॄकण्डु मुनि आश्र्चर्यचकित हो गये। उन्होंने ध्यानसे आँखें खोलकर देखा , भगवान् ‍ विष्णु सम्मुख विराजमान हैं। उनके मुखसे प्रसन्नता टपक रही है , वे शान्तभावसे स्थित है। जगतका धारण - पोषण उन्हींके द्वारा होता है। यह सम्पूर्ण विश्व उन्हींका तेज है। भगवानका दर्शन करके मुनिका शरीर पुलकित हो उठा। उनके नेत्रोंसे आनन्द्के आँसू झरने लगे। उन्होंने पॄथ्वीपर दण्ड दण्डकी भाँति गिरकर उन देवाधिदेव सनातन परमात्माको प्रणाम किया। फिर हर्षजनक आँसुओंसे भगवानके दोनों चरण पखारते हुए वे सिरपर अत्र्जलि बाँधे उनकी स्तुति करने लगे।
मॄकण्डुजी बोले -
परमात्मस्वरुप परमेश्वरको नमस्कार है। जो परसे भी अति परे हैं , जिनका पार पाना असम्भव है , जो दूसरोंपर अनुग्रह करनेवाले तथा दूसरोंको संसार - सागरके उस पार पहुँचा देनेवाले है , उन भगवान् ‍ श्रीहरिको नमस्कार है। जो नाम और जाति आदिकी कल्पनाओंसे रहित है , जिनका स्वरुप शब्दादि विषयोंके दोषसे दूर है , जिनके अनेक स्वरुप हैं तथा जो तमोगुणसे सर्वथा शुन्य हैं , उन स्तुति करनेयोग्य परमेश्वरका मैं भजन करता हूँ जो वेदान्तवेध और पुराणपुरुष हैं , ब्रह्मा आदिसे लेकर सम्पूर्ण जगत् ‍ जिनका स्वरुप है , जिनका कहीं भी उपमा नहीं है तथा जो भक्तजनोंपर अनुग्रह करनेवाले हैं , उन स्तवन करनेयोग्य आदिपरमेश्वरकी मैं आराधना करता हूँ। जिनके समस्त दोष दूर हो गये हैं , जो एकमात्र ध्यानमे स्थित रहते हैं , जिनकी कामना निव्रत और मोह दूर हो गये हैं , ऎसे महात्मा पुरुष जिनका दर्शन करते है , संसार - बन्धनको नष्ट करनेवाले उन परम पवित्र परमात्माको मैं प्रणाम करता हूँ। जो स्मरणमात्रसे समस्त पीडाओंका नाश कर देते है , शरणमें आये हुए भक्तजनोंका पालन करते हैं , जो समस्त संसारके सेव्य हैं तथा सम्पूर्ण जगत् ‍ जिनके भीतर निवास करता है , उन कारुणासागर परमेश्वर विष्णुको मैं नमस्कार करता हूँ। महर्षि मॄकण्डुके इस प्रकार स्तुति करनेपर शंख , चक्र और गदा धारण करनेवाले भगवान् ‍ विष्णुको बडी प्रसन्नता हुई। उन्होंने अपनी चार विशाल भुजाओंसे खीचकर मुनिको ह्र्दयसे लगा लिया और अत्यन्त प्रेमपूर्वक कहा - उत्तम व्रतका पालन करनेवाले मुने। तुम सर्वथा निष्पाप हो , तुम्हारि तपस्या और स्तुतिसे मैं बहुत प्रसन्न हूँ तुम कोई वर माँगो। सुव्रत। तुम्हारे मनको जो अभीष्ट हो , वही वर माँग लो।
मृकण्डुने कहा -
देवदेव। जगन्नाथ। मैं कृतार्थ हो गया , इसमें तानिक भी संशय नहीं है , क्योंकि जो पुण्यात्मा नहीं है , उनके लिये आपका दर्शन सर्वथा दुर्लभ है। ब्रह्मा आदि देवता तथा तीक्ष्ण व्रतका पालन करनेवाले योगीजन भी जिनका दर्शन नहीं कर पाते , धर्मानिष्ठ , यज्ञोंकी दीक्षा लेनेवाले यजनाम , वीतराग साधक तथा ईर्ष्याराहित साधुओंकी भी जिनका दर्शन दुर्लभ है , उन्हीं परम तेजोमय आप श्रीहरिका मैं दर्शन कर रहा हूँ , इससे बढकर दुसरा क्या वर मांगूँ ? जगदगुरु जनार्दन। मैं इतनेसे ही कॄतार्थ हूँ। अच्युत महापातकी मनुष्य भी आपके नामोंका स्मरण करनेमात्रसे आपके परम पदाको प्राप्त कर लेते है ; फिर जो आपका दर्शन कर लेता है , उसके लिये तो कहना ही क्या है ?
श्रीभगवान् ‍ बोले -
ब्रह्मन् ‍ । तुमने ठीक कहा है। विद्वान् ‍ । मैं तुमपर बहुत प्रसन्न हूँ , मेरा दर्शन कदापि व्यर्थ नहिं होगा। अत : तुम्हारी तपस्यासे संतुष्ट होकर मैं तुम्हारे यहाँ ( अंशरुपसे ) समस्त गुणोंसे युक्त , रुपवान ‍ तथा दीर्घजीवी पुत्रके रुपमें उत्पन्न होऊँगा। मुनिश्रेष्ठ। जिसके कुलमें मेरा जन्म होता है , उसका समस्त कुल मोक्षको प्राप्त कर लेता है। मेरे प्रसन्न होनेपर तीनों लोकोंमे कौन - सा कार्य असाध्य है।
ऐसा कहकर देवदेवेश्वर भगवान् ‍ विष्णु मृकण्डु मुनिके देखते - देखते अन्तर्धान हो गये। तदनन्तर वे मुनि तपस्यासे निवॄत्त हो गये।

comments powered by Disqus