प्रथम पाद - मासोपवास-व्रतकी विधि

मासोपवास -व्रतकी विधि और महिमा
श्रीसनकजी कहते हैं -
नारदजी ! अब मैं मासोपवास नामक दूसरे श्रेष्ठ व्रतका वर्णन करूँगा ; एकाग्रचित्त होकर सुनिये। वह सब पापोंको हर लेनेवाला , पवित्र तथा सब लोकोंका उपकार करनेवाला है। विप्रवर ! आषाढ़ , श्रावण , भादों अथवा आश्विन मासमें इस व्रतको करना चाहिये। इनमेंसे किसी एक मासके शुक्ल पक्षमें जितेन्द्रिय पुरुष पञ्चगव्य पीये और भगवान् ‌‍ विष्णुके समीप शयन करे। तदनन्तर प्रातःकाल उठकर नित्यकर्म समाप्त करनेके पश्रात् ‌‍ मन और इन्द्रियोंको वशमें करके क्रोधरहित हो , श्रद्धापूर्वक भगवान् ‌‍ विष्णुकी पूजा करे। विद्वानोंके साथ भगवान् ‌‍ विष्णुका यथोचित पूजन करके स्वस्तिवाचनपूर्वक यह संकल्प करे –
मासमेकं निराहारो ह्यद्यप्रभृति केशव।
मासान्ते पारणं कुर्वे देवदेव तवाज्ञया ॥
तपोरूप नमस्तुभ्यं तपसां फलदायक।
ममाभीष्टफलं देहि सर्वविघ्नान् ‌‍ निवारय ॥
( ना० पूर्व० २२।६ - ७ )
‘ देवदेव ! केशव ! आजसे एक मासतक मैं निराहार रहकर मासके अन्तमें आपकी आज्ञासे पारण करूँगा। प्रभो ! आप तपस्यारूप हैं और तपस्याके फल देनेवाले हैं। आपको नमस्कार है। आप मुझे अभीष्ट फल दें और मेरे सम्पूर्ण विघ्रोंका निवारण करें। ‘
इस प्रकार भगवान् ‌‍ विष्णुको शुभ मासव्रत समर्पण करके उस दिनसे लेकर महीनेके अन्ततक भगवान् ‌‍ विष्णुके मन्दिरमें निवास करे और प्रतिदिन पञ्चामृतकी विधिसे भगवानको स्नानन करावे। उस महीनेमें निरन्तर भगवान्‌‍के मन्दिरमें दीप जलावे। नित्यप्रति अपामार्ग ( ऊँगा -चिरचिरा )-की दातुन करे और भगवान् ‌‍ नारायणके चिन्तनमें रत हो विधिपूर्वक स्नानन करे। तदनन्तर पहलेकी भाँति संयमपूर्वक भगवान् ‌‍ विष्णुको स्नानन करावे और उनकी पूजा करे। इस प्रकार मासोपवास पूरा होनेपर भगवत्पूजनपूर्वक यथाशक्ति ब्राह्यणोंको भोजन करावे और भक्तिपूर्वक उन्हें दक्षिणा दे। फिर स्वयं भी इन्द्रियोंको वशमें करके बन्धुजनोंके साथ भोजन करे। इस प्रकार व्रती पुरुष तेरह बार मासोपवास अर्थात् ‌‍ प्रतिवर्ष एक मासोपवास -व्रत करता हुआ तेरह वर्षतक व्रत करे। उसके अन्तमें वेदवेत्ता ब्राह्यणको दक्षिणासहित गोदान करे। बारह ब्राह्यणोंको विधिपूर्वक भोजन करावे और अपनी शक्तिके अनुसार उन्हें वस्त्र , आभूषण तथा दक्षिणा दे। इस प्रकार जो मनुष्य इन्द्रियसंयमपूर्वक तेरह पराक पूर्ण कर लेता है , वह परमानन्द पदको प्राप्त होता है , जहाँ जाकर कोई शोक नहीं करता। मासोपवास -व्रतमें लगे हुए , गङ्रास्नाननमें तत्पर तथा धर्ममार्गका उपदेश करनेवाले मनुष्य निस्संदेह मुक्त ही हैं। विधवा स्त्रियों , संन्यासियों , ब्रह्यचारियों और विशेषतः वानप्रस्थियोंको यह मासोपवास -व्रत करना चाहिये। स्त्री हो या पुरुष , इस परम दुर्लभ व्रतका अनुष्ठान करके मोक्ष प्राप्त कर लेता है , जो योगियोंके लिये भी दुर्लभ है। गृहस्थ हो या वानप्रस्थ , ब्रह्यचारी हो या संन्यासी तथा मूर्ख हो या पण्डि -इस प्रसंगको सुनकर कल्याणका भागी होता है। जो भगवान् ‌‍ नारायणकी शरण होकर इस पुण्यमय व्रतका वर्णन सुनता अथवा पढ़ता है , वह पापोंसे मुक्त हो जाता है।

comments powered by Disqus