भवनभास्कर
संकलित साहित्य Updated: 15 April 2021 07:30 IST

भवनभास्कर : चौबीसवाँ अध्याय

वास्तुविद्याके अनुसार मकान बनानेसे कुवास्तुजनित कष्ट दूर हो जाते है ।

तेईसवाँ अध्याय   पचीसवाँ अध्याय

चौबीसवाँ अध्याय

गृहप्रवेश

( १ ) अकपाटमनाच्छन्नमदत्तबलिभोजनम् ।

गृहं न प्रविशेदेवं विपदामाकरं हि तत् ॥

( नारदपुराण, पूर्व० ५६। ६१९)

' बिना दरवाजा लगा, बिना छतवाला, बिना देवताओंको बलि ( नैवेद्य ) तथा ब्राह्मण - भोजन कराये हुए घरमें प्रवेश नहीं करना चाहिये; क्योंकि ऐसा घर विपत्तियोंका घर होता है ।'

( २ ) गृहप्रवेश माघ, फाल्गुन, वैशाख और ज्येष्ठमासमें करना चाहिये । कार्तिक और मार्गशीर्षमें गृहप्रवेश मध्यम है । चैत्र, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, आश्विन और पौषमें गृहप्रवेश करनेसे हानि तथा शत्रुभय होता है ।

माघमासमें गृहप्रवेश करनेसे धनका लाभ होता है ।

फाल्गुनमासमें गृहप्रवेश करनेसे पुत्र और धनकी प्राप्ति होती है ।

वैशाखमासमें गृहप्रवेश करनेसे धन - धान्यकी वृद्धि होती है ।

ज्येष्ठमासमें गृहप्रवेश करनेसे पशु और पुत्रका लाभ होता है ।

( ३ ) जिस घरका द्वार पूर्वकी ओर मुखवाला हो, उस घरमें पञ्चमी, दशमी और पूर्णिमामें प्रवेश करना चाहिये ।

जिस घरका द्वार दक्षिणकी ओर मुखवाला हो, उस घरमें प्रतिपदा, षष्ठी और एकादशी तिथियोंमें प्रवेश करना चाहिये ।

जिस घरका द्वार पश्चिमकी ओर मुखवाला हो, उस घरमें द्वितीया, सप्तमी और द्वादशी तिथियोंमें प्रवेश करना चाहिये ।

जिस घरका द्वार उत्तरकी ओर मुखवाला हो, उस घरमें तृतीया, अष्टमी और त्रयोदशी तिथियोंमें प्रवेश करना चाहिये ।

चतुर्थी, नवमी, चतुर्दशी और अमावस्या - इन तिथियोंमें गृहप्रवेश करना शुभ नहीं है ।

( ४ ) रविवार और मंगलवारके दिन गृहप्रवेश नहीं करना चाहिये । शनिवारमें गृहप्रवेश करनेसे चोरका भय रहता है ।

. . .