गीतांजलि
रवीन्द्रनाथ ठाकुर Updated: 15 April 2021 07:30 IST

गीतांजलि : विपदा से मेरी रक्षा करना

गीतांजलि रवीन्द्रनाथ ठाकुर की कविताओ का संग्रह है, जिनके लिए उन्हे सन् १९१३ में नोबेल पुरस्कार मिला था। 'गीतांजलि' शब्द गीत और अन्जलि को मिला कर बना है जिसका अर्थ है - गीतों का उपहार (भेंट)। यह अग्रेजी में लिखी १०३ कविताएँ हैं। इस रचना का मूल संस्करण बंगला मे था जिसमें ज्यादातर भक्तिमय गाने थे।

कितने अनजानों से तुमने करा दिया मेरा परिचय   अंतर मम विकसित करो

विपदा से मेरी रक्षा करना
मेरी यह प्रार्थना नहीं,
विपदा से मैं डरूँ नहीं, इतना ही करना।

दुख-ताप से व्यथित चित्त को
भले न दे सको सान्त्वना
मैं दुख पर पा सकूँ जय।

भले मेरी सहायता न जुटे
अपना बल कभी न टूटे,
जग में उठाता रहा क्षति
और पाई सिर्फ़ वंचना
तो भी मन में कभी न मानूँ क्षय।

तुम मेरी रक्षा करना
यह मेरी नहीं प्रार्थना,
पार हो सकूँ बस इतनी शक्ति चाहूँ।

मेरा भार हल्का कर
भले न दे सको सान्त्वना
बोझ वहन कर सकूँ, चाहूँ इतना ही।

सुख भरे दिनों में सिर झुकाए
तुम्हारा मुख मैं पहचान लूंगा,
दुखभरी रातों में समस्त धरा
जिस दिन करे वंचना
कभी ना करूँ, मैं तुम पर संशय।

. . .