भजन
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

भजन : चालो रे सखियाँ चलो

भजन

आओ रामा भोग लगाओ श्यामा   गाइए गणपति जग वंदन

चालो रे सखियाँ चलो , हिमालय के द्वारे आज |

गोरा बाई रो बींद निरखस्यां गोरो है या कालो राज ||


ऐसा कामण म्हारे , शिव बोले ने सोहे राज |

शिव भोले ने सोहे, यह तो गोरा बाई ने मोहे राज ||१||


बाघम्बर का वस्त्र पहेरे , अंग विभूति रमावे राज|

मस्तक पर तो चन्द्रमा सोहे , जटा में गंगा बिराजे ओ राज ||२||


काना में थारे कुंडल सोहे , गल सर्पों की माला राज |

नंदी की असवारी सोहे, त्रिशूल हाथ में धारया ओ राज ||३||


भान्त भान्त का बाराती आया, कोई लूला कोई लंगड़ा राज |

भुत प्रेत ने सागे ल्याया , शिव को रूप अनोखो ओ राज ||४||


भांग धतुरा करे कलेवो , बिजिया खूब चढ़ावे राज |

शिव भोला का आया बाराती , पातल पापड़ खावे ओ राज ||५||


शिव भोले को रूप देख कर, सखियाँ पाछी भागे राज|

सखियाँ यह केवण लागी, बींद घणो ही भून्ड़ो ओ राज ||६||


म्हे नहीं जाणा, म्हारा जोशी कामण गारा राज|

जोशीजी को नेक चुकास्यां कामण ढीला छोड़ो ओ राज ||७||


चालो रे सखियाँ चलो , हिमालय के द्वारे आज |

गोरा बाई रो बींद निरखस्यां गोरो है या कालो राज ||

. . .