भजन
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

भजन : श्याम आये नैनों में

भजन

रे मन हरि सुमिरन करि लीजै   तुम मेरी राखो लाज हरि

श्याम आये नैनों में
बन गयी मैं साँवरी

शीश मुकुट बंसी अधर
रेशम का पीताम्बर
पहने है वनमाल, सखी
सलोनो श्याम सुन्दर
कमलों से चरणों पर
जाऊँ मैं वारि री

मैं तो आज फूल बनूँ
धूप बनूँ दीप बनूँ
गाते गाते गीत सखी
आरती का दीप बनूँ
आज चढ़ूँ पूजा में
बन के एक पाँखुड़ी

. . .