हे रोम रोम में बसने वाले राम .
जगत के स्वामी हे अंतर्यामी .
मैं तुझसे क्या माँगू ..
भेद तेरा कोई क्या पहचाने .
जो तुझसा हो वो तुझे जाने .
तेरे किये को हम क्या देवे .
भले बुरे का नाम ..

. . .