भजन
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

भजन : राम करे सो होय रे मनवा

भजन

सखिन्ह मध्य सिय सोहति कैसे   हरि भजन बिना सुख शान्ति नहीं

राम झरोखे बैठ के सब का मुजरा लेत .
जैसी जाकी चाकरी वैसा वाको देत ..

राम करे सो होय रे मनवा, राम करे सो होये ..

कोमल मन काहे को दुखाये, काहे भरे तोरे नैना .
जैसी जाकी करनी होगी, वैसा पड़ेगा भरना .
काहे धीरज खोये रे मनवा, काहे धीरज खोये ..

पतित पावन नाम है वाको, रख मन में विश्वास .
कर्म किये जा अपना रे बंदे, छोड़ दे फल की आस .
राह दिखाऊँ तोहे रे मनवा, राह दिखाऊँ तोहे ..

. . .