भजन
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

भजन : शंकर शिव शम्भु साधु

भजन

रंगवाले देर क्या है   श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन

शंकर शिव शम्भु साधु संतन हितकारी ॥

लोचन त्रय अति विशाल सोहे नव चन्द्र भाल ।
रुण्ड मुण्ड व्याल माल जटा गंग धारी ॥

पार्वती पति सुजान प्रमथराज वृषभयान ।
सुर नर मुनि सेव्यमान त्रिविध ताप हारी ॥

. . .