वीर हनुमाना अति बलवाना

राम राम रटीयो रे
मेरे मन बसियो रे

न कोई संगी साथ की तंगी
विनती सुनियो रे ... मेरे मन बसियो रे

. . .