भजन
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

भजन : भगवान तुम्हारे मन्दिर में...

भजन

उठ जाग मुसाफिर भोर भई   राधे तू राधे

भगवान तुम्हारे मन्दिर में, मैं तुम्हें रिझाने आई हूँ ।
वाणी में है माधुर्य नहीं, पर विनय सुनाने आई हूँ ।।

पूजा के लिए न पास फूल, फिर भी तो साहस देखो ।
सब के सन्मुख पानी होकर, मैं तुम्हें मनाने आई हूँ ।।

प्रभु का चरणामृत लेने को, दासी पर है जलपात्र नहीं ।
केवल अपना यह हृदय खोल, सब बन्ध दिखाने आई हूँ ।।

. . .