श्लोक
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

श्लोक : श्री राम चंद्र कृपालु भजमन

श्लोक

शांताकारम भुजंगशयनम   महामृत्युंजय मंत्र

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भव भय दारुणम् |

नव कंज लोचन कंज मुख कर कंज पद कंजारुणम् ||


कंदर्प अगणित अमित छवि नव नील नीरज सुन्दरम् |

पट पीत मानहु तड़ित रूचि शुचि नौमि जनक सुतावरम् ||


भज दीन बन्धु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम् |

रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम् ||


सिर मुकुट कुंडल तिलक चारु उदारु अंग विभूषणम् |

आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर - दूषणम् ||


इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम् |

मम हृदय कंज निवास कुरु कामादि खल दल गंजनम् ||

. . .