श्लोक
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

श्लोक : सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात्

श्लोक

असतो मा सदगमय   यथा शिखा मयूराणां

सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् , न ब्रूयात् सत्यम् अप्रियम् । प्रियं च नानृतम् ब्रूयात् , एष धर्मः सनातन: ॥


सत्य बोलना चाहिये, प्रिय बोलना चाहिये, सत्य किन्तु अप्रिय नहीं बोलना चाहिये । प्रिय किन्तु असत्य नहीं बोलना चाहिये ; यही सनातन धर्म है ॥

. . .