श्लोक
संकलित Updated: 15 April 2021 07:30 IST

श्लोक : यथा शिखा मयूराणां

श्लोक

सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात्   बहुभिर्प्रलापैः किम्